थारूनके टिह्वार अट्वारी

  •   
  •  

शालिकराम (सौगात) चौधरी

हम्र थारु आपन पन आपन संस्कृति संस्कार समाज म इज्जते साथ मनाई सेक पर्ना वा थारु संस्कृति एक महान संस्कृति हो जुन नेपाली नेपालिन क लाग गौरव के विषय हो कि विश्वके मनै थारु संस्कृतिके वारेम पर पैना लिख सिख पैना एज्म् करटि वट उ हमार लाग एक सौभाग्य हो कि हमार जिवन से ज्वरल चिज हन आज सरकार फेन विदा घोषण करटी वट कि उ पर्व एक उल्लासके साथ मना जाय धेर वर्प तिह्रार मध्य आज अट्वारी

मनाय जैइती वटी अट्वारी पर्व एक महा भारत के कहानी से ज्वारल देख प्रर्था जुन पाच पाण्डव से ज्वारल वा हम्र थारुन खास कैख (भेवा) ह पुज्थी । जहा पहिला दिन भिन्सार खैना दोसर दिन वत्र रना तेसर दिन फरहार घ दिन के काम म संस्कार म वराइत अट्वारी तर उ काम काज आमनि अघारीसे तयारी कर पर्था ।

जस्तक कि पटयिा टुरर्ना काथि करर्ना यि तिह्रारम थारु मनै केलु भक्खल रना हो काकर कि जननी मनै अष्टीम्कि म भुक्खल रथ भुखल रलसे फेन सन्इmया कना न्वान, टिना वाहेक और खादर्ना चलन देख प्रर्था तर अग्नी पानी घिउ खैना खाना पिना फल फूल सक्कु एक दिउता के रुप म मान जाइत सायद असिन केकरो धर्म संस्कृति नै हुई एक वैज्ञानिक अस थारुन के संस्कृति देख पर्था जुन चिज हन हम्र जिवन भर पाइक लाग काम करर्थी उह चिज ह भगवानके रुपम म मनथी यी एक शरानयि वात हो हुइना त महा भारत जवार चिज धेरनक वा तर उहा जाइ वेर महनिा दिन लाग जाइ अध्ययन करक लिखना हो कलसे तर दान्छे फिचर के अशं से लौवा पुस्तनके लाग गाइड लाइन फेन हुई से कि यि अट्वारी तिहार म दादु भैया दिदि वावुन दाइ वावा सककु आपन मनैन क लग्गके नाटा झान गहरि वनाइल वा थारु समुदाय म विशेष कैखन भेवा के शतिm जसिन हम्र श्वाथ्य रह सेकि कना फेन हो ।

अट्री म थारुन के खान पिन ठाउ अनुसार फरक फरक रहट ।
जस्तै : डगौरा थारु, देसौ¥या थारु, राण थारु
१. रोटी
चाउके, गोहुके, अण्डीक
२. तरकारी म
अल्ग अल्ग ३ वा ५ वा ७ वा ९ विजोर प्रकार रहथ
जस्तक : पवइ, कैँठा, भेण्डी, गब्डा, सिल्टुङ, ब्वारा, टोरैयाँ ओ मच्छी
३. फलफुल म
खिरा, क्यारा, अम्रुट
४. पिना म
दूध, दही,
५. भिन्सार
भात, मच्छी ओ घोँगीलगायत शिकार खैना चलन वा और आपन चलन सकारी अनुसार चलन वा सिकार मचिछी पकऔरी, पिलौरी, खरयिा, मेर मेर क वनैना चलन वा ।

असिक परिकार खैना वनैइल से फेन आपन आपन तरीकासे सामा ज्वती जुतैना चलन वा दाग म काठी, पट्या पिठा पिसैना लौव आगि उठैना तरतर के परिाकर टिना टाउन जुटैना चलन वा समाज म विकरििट अन्ना कौनो कार्य नै रहत सभद्र वातावरण से शुरु व सम्पन्न हुइत अट्वारी तिह्रवार हुयना त दिदि वहनिेहुकहिन अर्गासन देनक कर जाइत रोटी भात टिना तरकारी फल फूल देह जैना खान पिन कैख एैना कर जाइत तर दिह जाखन फेन फिर्ता लानअश उहर से फेन दिदि वावुन खालि नै पठैना कैख पहुरा देना चलन वा यि अलिक नैइ मजा लागत दिह गैइल म लेके एैना चलन और त सव मजा वा हमार अट्वरी तिह्रार मनै आपन संस्कार संस्कृति विसरैटी जाइट ।

काकर कि लौव औ जनक संस्कृति संस्कार म रमझम परलक मार यि अलिक नै मजा अस लागत आज कोविट १९ के कारणले विश्वके मनै सिखल वट थारुन के संस्कृति जुन खानपन काम काज सव थारुन के डकटर्वा अश वनल वा काम कर्ल से कसरत करनैप।ल घर उत्पादन करलक खान पिन करलसे अरगानिक हुयना हूइल नै त उह मार हम्र हमार संस्कृति संस्कार वचैना कहि वा प्रमो शन कर्ना कहि यिह कर सेकलसे हम् हमार संस्कति अपने उदय मान हो ग्ैइल नि त लौव पुस्ता जन पहर लिखक सेकल सेफेन कालुक दिन म आपन असतित्प जरुरुर खोजहि काकर केकर छावा केकर नटिया कहवे आपन पन अपनेह खोज लागत उह मार वधावा देलक हो हमार थारुन के तिह्रार हन ।

थारु मनै हमार टिह्वार के माध्यमसे नेपाल ह ओ नेपालिन विश्व म चिन्हैना एक महत्वपूर्ण कार्य हो । यिहिम सक्कुजे लिखना, सन्देश डेना काम करपर्ना हमार अहम भूमिका वा आपन कर्तव्य निभाइपर्ना बा ।